निवाले पर नजरः मोतिहारी में MDM के चावल का काला खेल उजागर, रात से घुप्प अंधेरे में स्कूलों में भेजा जाता है चावल, एजीएम-ठेकेदार-बीआरसीपी की सेटिंग से इंकार नहीं

निवाले पर नजरः मोतिहारी में MDM के चावल का काला खेल उजागर, रात से घुप्प अंधेरे में स्कूलों में भेजा जाता है चावल, एजीएम-ठेकेदार-बीआरसीपी की सेटिंग से इंकार नहीं

MOTIHARI: मोतिहारी में नैनिहालो के निवाले का काला खेल लगातार जारी है । कभी फर्जी ठेकेदार बनकर लाखों रू के एमडीएम का चावल कालाबाजारी कर दी जाती है तो रात के घुप्प अंधेरे में स्कूल में एमडीएम का चावल गिराने का काला खेल चलता है । एक बार फिर से पताही प्रखंड में रात के अंधेरे में बच्चों के निवाले को गटकने की मंशा का खुलासा हुआ है। 

पताही प्रखंड पहले फर्जी ठेकेदार बनकर लाखों के चावल गबन करने को लेकर सुर्खियों में रहा । जब फर्जी ठेकेदार,गोदाम प्रबंधन,एमडीएम प्रभारी की कारगुजारी मीडिया में आया तो आनन फानन में डीईओ ने जांच कर मात्र 225 क्विंटल चावल गबन की प्राथमिकी दर्ज कराई। वहीं फरवरी-मार्च महीने में सूखा राशन वितरण में अधिकांश प्रखंडों में कागज पर ही एमडीएम का चावल वितरण कर दिया गया। मामला सुर्खियों में आने के बाद जिला एमडीएम प्रभारी सह डीईओ ने तीन प्रखण्डों की जांच कराई। लेकिन प्रभार बदलने के खेल में आजतक कारवाई नही की जा सकी है। आखिर कार्रवाई होता भी कैसे, जब जिले के डीईओ के प्रभार में रहने के दौरान ही इतना बड़ा गबन हुआ। सूत्रों की मानें तो जिले के सभी प्रखंडो के एमडीएम के जांच के लिए डीएम द्वारा  बीडीओ व सीओ को निर्देशित किया गया था ।लेकिन आजतक डीएम के आदेश का कोई असर देखने को नही मिला । 

ताजा मामला पताही प्रखंड का है जहां, एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है । वायर वीडियो में डिलेवरी बॉय द्वारा 9 बजे रात्रि में पताही बालक विद्यालय में एमडीएम का चावल गिराया जा रहा है । गाड़ी पर न वजन मशीन है, नही कुछ । आखिर जब विद्यालय चार बजे बंद हो जाते हैं तो किस परिस्थिति में 9 बजे रात्रि में एमडीएम का चावल स्कूल में पहुंचता है? रात्रि में स्कूल में चावल गिराने का वीडियो वायरल होने के बाद लोग यह कहते नही थक रहे कि जब शाम 5 बजे के बाद गोदाम से उठाव नही होना चाहिए तो आखिर किस नियत से रात्रि में चावल स्कूल में गिराया जा रहा है । यह जांच का विषय है. नैनिहलो के निवाले पर आखिर किसकी नजर है? वीडियो वायरल होने के बाद अनुमंडल प्रशासन ने स्कूल में  चावल गिराने पर रोक लगा दिया गया । गोदाम से स्कूल के एमडीएम के चावल का उठाव दोपहर 2 बजे तक ही किया जाना है तो रात्रि 9 बजे स्कूल में चावल कैसे पहुंचा। एक सप्ताह पूर्व भी प्रखंड क्षेत्र में एक स्कूल में रात्रि में चावल गिराने की चर्चा तेज है ।

डिलेवरी एजेंट, गोदाम प्रबंधक व एमडीएम प्रभारी के बयान में भारी अंतर 

इस संबंध में गोदाम प्रबंधक संजय कुमार ने बताया कि गोदाम से 3 बजे के आसपास संवेदक के द्वारा एमडीएम के चावल का उठाव किया गया । डिलेवरी बॉय द्वारा ग्रुप पर गाड़ी खराब होने की सूचना डाला गया .इसी कारण विद्यालय में लेट से गाड़ी पहुंची। वहीं डिलेवरी बॉय अनिल कुमार ने बताया कि 24 विद्यालय के एमडीएम का चावल उठाव किया गया था। चावल उठाव की सूचना एमडीएम प्रभारी को दी गई थी। एमडीएम प्रभारी द्वारा स्कूल के एचएम को सूचना देने की बात कही गयी थी ।स्कूल में चावल वितरण में लेट होने के कारण पताही बालक में 7 बजे रात्रि में पहुचे थे । गाड़ी पर वजन मशीन नही रहता है । बिना वजन के ही स्कूल को दिया जाता है ।प्रखंड एमडीएम प्रभारी रामभरोस साथी ने बताया कि इसके पूर्व भी डिलेवरी बॉय द्वारा देर शाम तक स्कूल में चावल का वितरण किया गया था। जिसको लेकर पूर्व में ही समय से चावल उठाव व वितरण का निर्देश दिया गया था । पताही बालक विद्यालय में 8 बजे रात्रि में एमडीएम चावल पहुंचने की सूचना मिलते ही इसकी सूचना जिला व अनुमंडल पदाधिकारी को देते हुए गाड़ी उसी स्थल पर लगाने का निदेशदिय्या गया । कई विद्यालयों में चावल नही रहने के कारण एमडीएम बंद होने के कारण त्वरित वितरण करने की बात कही गयी थी ।

Find Us on Facebook

Trending News