किसका इंतजार कर रहे सरकार? बिहार BJP सांसदों का 'केंद्र' नोटिस नहीं लेता, अब दुःखी मन से बीजेपी MP ने जेपी नड्डा से लगाई गुहार

किसका इंतजार कर रहे सरकार? बिहार BJP सांसदों का 'केंद्र' नोटिस नहीं लेता, अब दुःखी मन से बीजेपी MP ने जेपी नड्डा से लगाई गुहार

PATNA: बिहार बीजेपी के तमाम बड़े नेताओं- सांसदों और केंद्रीय मंत्री की गुहार पर भी केंद्र कोई नोटिस नहीं ले रहा। बीजेपी के कई बड़े नेता और सांसद रक्षा मंत्रालय से बिहटा स्थित कर्मचारी राज्य बीमा निगम हॉस्पिटल में डीआरडीओ द्वारा संचालित 500 बेड के कोविड अस्पताल की शुरूआत करने की मांग कर चुके हैं। लेकिन बिहार के सांसद और केंद्रीय मंत्री की गुहार पर भी अब तक खास रिस्पॉंस नहीं मिला। तमाम कोशिश के बाद सिर्फ पचास बेड की व्यवस्था की गई। मंत्री रविशंकर प्रसाद,सुशील मोदी,रामकृपाल यादव समेत कई बड़े नेताओं ने पहल की लेकिन अब तक बात नहीं बनी है। जबकि 2020 में बिहटा ESI हॉस्पिटल में डीआरडीओ द्वारा पांच सौ बेड का अस्पताल चालू किया गया था। अब स्थानीय सांसद रामकृपाल यादव ने अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष से इसमें पहल करने की मांग की है। 

रामकृपाल यादव अब जेपी नड्डा से लगा रहे गुहार  

पाटलिपुत्र के भाजपा सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव ने अब अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने कहा कि हमने अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष से संसदीय क्षेत्र स्थित बिहटा के कर्मचारी राज्य बीमा निगम हॉस्पिटल में डीआरडीओ द्वारा संचालित कोविड अस्पताल में 500 बेड में से मात्र 50 बेड की व्यवस्था चालू होने तथा अन्य स्थितियों से अवगत कराया। साथ ही सभी 500 बेडों को जल्द शुरू करने की मांग की। इसके साथ ही  सभी राज्यों के लिए उपलब्ध कराए जा रहे रेमडेसिविर वैक्सीन एवं ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा उपलब्ध कराने की मांग रखी।

सुशील मोदी ने राजनाथ सिंह से लगाई थी गुहार

इसके पहले बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम व राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने 20 अप्रैल को बिहटा ईएसआई अस्पताल को चालू कराने को लेकर रक्षा मंत्री से बात की थी। उन्होंने 20 अप्रैल को कहा था कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दूरभाष पर बातचीत में आश्वासन दिया कि सेना को बिहटा स्थित ई.एस.आई अस्पताल में डाक्टर और मेडिकल कमी तथा बेड बढ़ाने का निर्देष दिया जा चुका है। सेना के अस्पतालों को भी आम कोविड मरीजों के इलाज के लिए खोला जा रहा है। डबल इंजन सरकार पीड़ित मानवता की सेवा के लिए युद्धस्तर पर लगी है, लेकिन कांग्रेस-राजद के राजकुमारों को कुछ भी होता नहीं दिखता।

रविशंकर प्रसाद ने भी की थी बात 

सुशील मोदी से पहले पटना के सांसद और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से भी बात की थी ताकि ESI बिहार हॉस्पिटल में सेना के डॉक्टरों तथा अन्यं सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सके. बता दें कि कोरोना संक्रमण के दौरान पिछले साल भी कर्मचारी बीमा निगम अस्पताल (ईएसआइसी हॉस्पिटल) सेना के हवाले किया गया था। कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आने के बाद सेना की टीम वापस लौट गई थी। बिहटा स्थित पांच सौ बेड का यह अस्पताल पटना के नजदीक है। पांच सौ बेड का है, जहां कोरोना के इलाज के लिए पर्याप्त इंतजाम हैं। यहां तकरीबन तीन सौ बेड पर ऑक्सीजन की व्यवस्था के साथ ही पर्याप्त संख्या में आइसीयू बेड, वेंटिलेटर आदि की सुविधा है।  


Find Us on Facebook

Trending News