कब निकलेगी नई बहाली ? चेहरा चमकाने को 'नीतीश-तेजस्वी' बांट रहे नौकरी...शिक्षक अभ्यर्थी राजधानी में ही 'सरकार' का कर रहे 'ब्रह्म्भोज'

कब निकलेगी नई बहाली ? चेहरा चमकाने को 'नीतीश-तेजस्वी' बांट रहे नौकरी...शिक्षक अभ्यर्थी राजधानी में ही 'सरकार' का कर रहे 'ब्रह्म्भोज'

PATNA: बिहार में महागठबंधन सरकार बनते ही नौकरी बांटने का सिलसिला शुरू है। पुरानी बहाली को नया बताकर सीएम नीतीश, डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के हाथों नियुक्ति पत्र दिये जा रहे हैं. एक तरह से नियुक्ति पत्र देने को लेकर जबर्दस्त दिखावा किया जा रहा. दूसरी तरफ नौकरी की मांग को लेकर लाखो शिक्षक अभ्यर्थी सालों से आंदोलन कर रहे। इसके बाद भी सरकार शिक्षक नियुक्ति को लेकर ताऱीख नहीं बता रही। सरकार नियुक्ति बांटने का दिखावा कर रही तो राजधानी में ही शिक्षक अभ्यर्थी नौकरी नहीं देने पर सरकार का ब्रह्मभोज कर रहे. 

नौकरी बांटने का दिखावा जारी..तो नौकरी के लिए आंदोलन भी जारी है

राजधानी पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनके डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव नौकरी बांट रहे। महागठबंधन सरकार बनने के साथ ही सरकारी नौकरी बांटने का सिलसिला शुरू हो गया है। 20 सितंबर 2022 को महागठबंधन सरकार ने पहली दफे राजस्व विभाग में नियुक्त कर्मियों को नियुक्ति पत्र दिया। हालांकि यह कहा गया कि इन सभी की नियुक्ति एनएडीए शासनकाल में ही हो गया था. उन्हीं कर्मियों को एक बार फिर से नियुक्ति पत्र थमाया गया। इसके बाद से तो नियुक्ति पत्र वितरण की होड़ लगी है। अंतिम नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम गांधी मैदान में आयोजित की गई. जहां 10 हजार से अधिक पुलिसकर्मियों को नियुक्ति पत्र दिए गए। नीतीश-तेजस्वी का नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम राजनीति की भेंट चढ़ गई। साथ ही यह भी खुलासा हो गया कि पुराने पुलिसकर्मी जो ट्रेनिंग ले रहे हैं उन्हें बुलाकर दिखावे के लिए नियुक्ति पत्र दिया गया। बीजेपी ने नीतीश-तेजस्वी पर चौतरफा हमला बोला है। साथ ही बिहार में एक नया घोटाला नियुक्ति घोटाले की संज्ञा दी है। 

सरकार का ब्रह्म्भोज 

इधर, नीतीश सरकार सातवें चरण की शिक्षक बहाली को कोई कार्रवाई नहीं कर रही। सीटेट-बीटेट के लाखो अभ्यर्थी शिक्षक बहाली की मांग को लेकर सालों से आंदोलन कर रहे। विपक्ष में रहने पर तेजस्वी यादव भी इन आँदोलनकारी शिक्षकों के पक्ष में खड़े थे. कई दफे तो वे आँदोलन में शामिल भी हुए। अब तेजस्वी यादव डिप्टी सीएम हैं. इसके बाद भी बहाली को लेकर सरकार तारीख नहीं बता रही। विवश होकर शिक्षक अभ्यर्थी अब आर-पार के मूड में आ गये हैं। 4 नवंबर से पटना के गर्दनीबाग में अनिश्चितकालीन आंदोलन की शुरूआत कर दी है। 17 तारीख को आंदोलनकारी शिक्षक अभ्यर्थियों ने नीतीश सरकार के विरोध में दिखावे के लिए ब्रह्मभोज किया। इसके पहले आंदोलनकारियों ने सिर मुंडाकर विरोध प्रदर्शन किया। फिर बारहवें दिन सरकार का क्रिया कर्म और ब्र्ह्मभोज किया।  



 

Find Us on Facebook

Trending News