बिहार का बजटः डिप्टी CM ने की घोषणा- इस बार 2 लाख 18 हजार 303 करोड़ का बजट...

बिहार का बजटः डिप्टी CM ने की घोषणा- इस बार 2 लाख 18 हजार 303 करोड़ का बजट...

PATNA: बिहार में वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट पेश किया गया है। विधानसभा में डिप्टी सीएम सह वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने आगामी वित्तीय वर्ष का बजट पेश किया है।वित्त मंत्री विधान सभा में बजट भाषण पढ़ा। डिप्टी सीएम ने अपने भाषण में बताया कि बिहार में इस बार का बजट 2 लाख 18 हजार 303 करोड़ रू का है. सदन में वित्त मंत्री ने बताया कि 2 लाख 18 हजार 502 करोड़ का अनुमानित आय होने का लक्ष्य है। योजना मद में 1051881 करोड़ की राशि जबकि गैर योजना मद में 1177830 करोड़ रू स्वीकृत किये गए हैं।

अपने बजट भाषण में वित्त मंत्री बजट की तमाम बातों का उल्लेख किया। डिप्टी सीएम ने कोरोना काल में बिहार सरकार द्वारा किये गए कामों का उल्लेख किया। बजट भाषण में तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि कोरोना संकट की वजह से भारी परेशानी हुई लेकिन सरकार ने बिहार के लोगों को हर तरह से मदद की है। चाहे बाहर फंसे बिहारी हों या राज्य में रह रहे गरीब हों या वृद्ध सबका ख्याल रखा गया। 

कदम मिलाकर चलना होगा.......

वित्त मंत्री ने कहा कि हम विपत्तियों से घबराते नहीं है बल्कि पूरी मजबूती से काम करते हैं. अटल जी की कविता को याद कहते हुए कहा- विपत्ति आती हैं तो आये.......कदम मिलाकर चलना होगा। कोरोना काल में भारत सरकार ने बिहार को काफी मदद किया है। वित्त मंत्री ने कहा कि बिहार सरकार सात निश्चय-1 के बाद अब सात निश्चय 2 पर काम कर रही है। 36 अनुमंडलों में एनएनएम संस्थान खोला गया है,28 जिलों में 12 जिलों में पारा मेडिकल संस्थान खोले जा चुके हैं. राज्य में 14 पॉलटेक्निक,11 इंजीनियरिंग कॉलेज खोले जा चुके हैं.

सात निश्चय की योजना उत्साह वर्धक रही है। इसके बाद साथ निश्चय 2 पर काम प्रारंभ किया गया है। सात लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए 4671 करोड़ का बजट बनाया गया है। युवाओं को रोजगारपरक शिक्षा उपलब्ध कराना है। इसके लिए सरकार ने साथ निश्चय-2 में कुशल युवा कार्यक्रम चलाया है। युवाओं को उद्धमी बनाने का काम कर रही है। आईटीआई और पॉलटेक्निक संस्थानों को समृद्ध किया जा रहा है,गुणवत्ता बढ़ाई जा रही है।

हर जिले में एक मेगा स्कील सेंटर

हर जिले में कम से कम एक मेगा स्कील सेंटर खोला जायेगा ताकि युवाओं को प्रशिक्षित किया जा सके। जो युवा आईटीआई नहीं कर पाये उन्हें प्रशिक्षित किया जाएगा। हर प्रमंडल में एक टूल्स रूम की स्थापना की जायेगी।

स्कील डेवलपमेंट और उद्मिता विभाग की स्थापना

स्कील डेवलपमेंट और उद्मिता विभाग कीअलग से स्थापना की जाएगी। इसमें आईटीआई और पॉलटेक्निक संस्थानों को रखा जाएगा। इससे काफी फायदा होगा। बिहार में एक खेल विवि की स्थापना राजगीर में की जाएगी।बिहार में इस बार का बजट 2 लाख 18 हजार 303 करोड़ रू का है.

Find Us on Facebook

Trending News