बिहार में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के काम में तेजी का असर, चार शहरों की रैंकिंग में हुआ सुधार

बिहार में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के काम में तेजी का असर, चार शहरों की रैंकिंग में हुआ सुधार

PATNA : पिछले तीन माह में राज्य के सभी चार स्मार्ट सिटी की रैंकिंग में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। देश के सौ शहरों की रैंकिंग में पटना जनवरी 2021 में जहां 38 वें स्थान पर था वह 5 अप्रैल को जारी रैंकिंग में अब 29 वें स्थान पर आ गया है। भागलपुर जनवरी में 66 वें स्थान पर था जो 5 अप्रैल को जारी रैंकिंग में 53 वें स्थान पर आ गया है। बिहारशरीफ दिसंबर में 86 वें स्थान से अप्रैल में 54 वें स्थान पर आ गया है और मुजफ्फरपुर जनवरी में 100 वें स्थान पर था जो अप्रैल में 81 वें स्थान पर आ गया है। उल्लेखनीय है कि जनवरी 2021 को राज्य सरकार द्वारा नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव को इन चारों स्मार्ट सिटी के बोर्ड आफ डायरेक्टर्स का अध्यक्ष बनाया था, जिसके पश्चात विभाग के स्तर पर सभी स्मार्ट सिटी के योजनाओं की लगातार मॉनिटरिंग की गयी और योजनाओं को तीव्र गति से क्रियान्वयन किया गया। आज की बैठक में उपमुख्यमंत्री द्वारा यह निदेश दिया गया कि इसे और भी बेहतर करते हुए राज्य के स्मार्ट सिटी की रैंकिंग में सतत सुधार जारी रखना है। बुधवार को नगर विकास एवं आवास विभाग के विभागीय सभागार में सभी स्मार्ट सिटी की गहन समीक्षा बैठक आयोजित हुई। 

उपमुख्यमंत्री सह नगर विकास एवं आवास मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने अपने संबोधन में कहा कि आमलोगों के सहयोग से सभी स्मार्ट सिटी में काम की रफ्तार और तेज होगी। हम सरकार द्वारा स्मार्ट सिटी में तेज गति से हो रहे कार्यों की उपलब्धियां आम लोगों को विभिन्न प्रसार माध्यमों के जरिये बताएंगे। 

समीक्षा बैठक में नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव आनंद किशोर ने कहा कि यह सुखद है कि विगत तीन महीनों में हुए लगातार प्रयासों के फलस्वरूप रैंकिंग में सुधार हुआ है, लेकिन इस रैंकिंग प्रतिस्पर्धा को आगामी दिनों में हमें और बेहतर बनाए रखना है। प्रधान सचिव आनंद किशोर ने सभी प्रबंध निदेशकों को निर्देश देते हुए कहा कि काम को और रफ्तार दें। हर कार्य की टेंडर प्रक्रिया में तेजी लाई जाए। इस बैठक में पटना, भागलपुर, बिहारशरीफ और मुजफ्फरपुर स्मार्ट सिटी के पदाधिकारीगण उपस्थित थे। 

मुजफ्फरपुर स्मार्ट सिटीः

सिकंदरपुर स्टेडियम को 20 करोड की राशि से मल्टीपर्पस स्पोर्टस स्टेडियम में परिवर्तित करने हेतु कार्यादेश जारी किए गए। सीबीडी एरिया में फेस लिफ्टिंग का कार्यादेश जारी किया गया। स्मार्ट रोड नेटवर्क का सर्वे का काम शुरू करा कर सिविल वर्क शुरू कराने की तैयारी है। शहर के नौ चौराहों के सौंदर्यीकरण का डिजाइन तैयार हो गया है। शहर में 11.62 करोड की राशि से आइसीसीसी यानी इंटिग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर बनाने के लिए एमआरडीए की पुरानी बिल्डिंग को हटाने का काम लगभग पूरा हो गया है। नगर भवन का जीर्णोधार हो रहा है। इसमें डिजिटल लाइब्रेरी निर्माण का कार्य होगा। रूफ टॉप सोलर प्रोजेक्ट के तहत ब्रेडा को काम सौंपा गया है। 

भागलपुर स्मार्ट सिटीः

सैंडिस कंपाउंड में ओपेन एयर थिएटर तैयार हो गया है, यह 30 अप्रैल को हैंडओवर हो जाएगा। बास्केटबॉल और लॉन टेनिस कोर्ट भी बनकर तैयार हो गया है, इसे 20 अप्रैल को हैंडओवर किया जाएगा। कैफेटेरिया निर्माण का काम लगातार जारी है, जून में कैफेटेरिया बनकर तैयार हो जाएगा। स्वीमिंग पुल बनाने का काम भी चल रहा है, अक्तूबर तक उसे पूरा कर दिया जाएगा। आइसीसीसी बिल्डिंग का टेंडर जारी किया जा रहा है। टाउन हॉल का टेंडर जारी हो गया है। नाइट शेल्टर का कार्यादेश जारी हो गया है। 

बिहारशरीफ स्मार्ट सिटीः 

बिहारशरीफ में 3.5 करोड रूपये की योजना पूर्ण हो गयी है। इसमें सोलर पैनल लगाने और सौंदर्यीकरण का कार्य शामिल है। 14.54 करोड से बाजार समिति को बेहतर बनाने का काम 50 फीसदी पूरा हो गया है। 4.58 करोड रूपये से शहर के दो पोखरों के सौंदर्यीकरण का काम 50 फीसदी पूरा हो गया है। टाउन हॉल को ऑडिटोरियम बनाने का काम 40 फीसदी पूरा हो गया है। 102 करोड रूपये की लागत से आइसीसीसी का काम शुरू करा दिया गया है। इसमें 25 फीसदी काम भी पूरा हो चुका है। अप्रैल के अंतिम सप्ताह से वहां कैमरे आदि भी लगने शुरू हो जाएंगे। आइसीसीसी भवन और स्मार्ट थाना का काम शुरू हो गया है। धनेश्वर घाट तालाब का सौंदर्यीकरण कार्य चल रहा है। 9 प्राथमिक स्कूलों के अपग्रेडेशन का काम जारी है। इस प्रकार तीन महीने में बिहारशरीफ स्मार्ट सिटी का काम 14 करोड रूपये से 140 करोड रूपये तक पहुंच चुका है। 

पटना स्मार्ट सिटीः

अदालतगंज तालाब के सौंदर्यीकरण का काम पूरा हो चुका है। वहां फव्वारा और लेजर शो लगाने का काम चल रहा है। 17 करोड की लागत से बनाए जा रहे जनसेवा केंद्र में से 9 पूरे हो चुके हैं। इंटिग्रेटेड सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के अंतर्गत कार्य तेजी से किया जा रहा है। हर घर पर क्यू आर कोड लगाने का काम जारी है, अबतक 70 हजार घरों में क्यूआर कोड लगाने का काम पूरा हो चुका है। सभी सफाई कर्मचारियों के बायोमीट्रिक अटेंडेंस बनाया जा रहा है। सोलर रूफटॉप लगाने का काम बुद्धा स्मृति पार्क और इंटर काउंसिल भवन पर पूरा होने के कगार पर है। गांधी मैदान में मेगा स्क्रीन भी तैयार है। इसके संचालन के लिए एजेंसी का चयन किया जा रहा है। यदि कोरोना का संक्रमण कम रहा तो आइपीएल के मैच भी इस पर दिखाए जा सकेंगे। 6 स्कूलों की आधारभूत संरचना बेहतर करने के लिए काम चल रहा है। मंदिरी नाला पर सड़क बनाने के लिए अब पूरी राशि 67 करोड रूपये को स्मार्ट सिटी से वहन किये जाने हेतु लोक वित समिति को प्रस्ताव भेजा गया है।

Find Us on Facebook

Trending News