अनुरक्षण नीति को लेकर हुई बैठक में शामिल हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, कहा निर्माण के साथ मेंटेनेंस पर ध्यान दें अभियंता

अनुरक्षण नीति को लेकर हुई बैठक में शामिल हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, कहा निर्माण के साथ मेंटेनेंस पर ध्यान दें अभियंता

PATNA : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समक्ष 1 अणे मार्ग स्थित संकल्प' में भवन निर्माण विभाग, पथ निर्माण विभाग और ग्रामीण कार्य विभाग द्वारा अनुरक्षण एवं मरम्मति के संबंध में प्रस्तुतीकरण के माध्यम से कार्ययोजना, कार्यप्रणाली, आवश्यक कार्यबल आदि के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गयी। बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी भवनों का बेहतर रखरखाव एवं संचालन बहुत आवश्यक है। सभी कार्य विभाग मेंटेनेंस अपने विभाग के द्वारा ही कराएं, इसके लिए आवश्यकतानुसार जितने अभियंताओं और कर्मियों की आवश्यकता हो उनकी बहाली कराएं। अनुरक्षण एवं मरम्मति के क्रियान्वयन हेतु जो नियम बनाएं उसका ठीक से अध्ययन कर लें। मेंटेनेंस की जो पॉलिसी बनाई जाए, वो बेहतर और स्पष्ट हो। सरकारी भवनों के मेंटेनेंस का तात्पर्य है कि पूरे परिसर का बेहतर ढंग से साफ-सफाई, लगाए गए पेड़-पौधों का ठीक ढंग से रखरखाव एवं भवनों की सुरक्षा के साथ-साथ सभी चीजें व्यवस्थित रहें। इससे भवन देखने में काफी सुंदर लगेगा। अभियंता निर्माण के साथ-साथ मेंटेनेंस पर विशेष ध्यान दें, फिजिकली भी निरीक्षण करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में हमलोगों ने कई आईकोनिक बिल्डिंग्स बनाई हैं। राजगीर में इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर बनाया गया है। पटना में सरदार पटेल भवन, बिहार म्यूजियम और सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र काफी बेहतर बनाया गया है। सबका मेंटेनेंस भी बहुत अच्छे ढंग से हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग, गृह विभाग में अलग से कॉरपोरेशन बनाकर भवनों के निर्माण की जिम्मेवारी दी गई है। ग्रामीण कार्य विभाग और पथ निर्माण विभाग के द्वारा बेहतर सड़क और पुल-पुलियों का निर्माण कराया गया है। हमलोगों का उद्देश्य सिर्फ बेहतर सड़क और पुल-पुलियों का निर्माण करना ही नहीं है बल्कि उसका मेंटनेंस भी उतना ही जरूरी है। बेहतर सड़क होने से लोगों का आवागमन आसान होता है और लोग सुरक्षित भी रहते हैं। 

उन्होंने कहा कि किसी चीज का बेहतर निर्माण कराते हैं और वह मेंटेन रहता है तो उसकी तारीफ सब जगह होती है और उसके निर्माण और मेंटेनेंस में लगे अभियंताओं की काफी प्रशंसा होती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विभाग द्वारा मेंटेनेंस करवाने से खर्च में भी बचत होगी और लोगों को नौकरी और रोजगार के अवसर मिलेंगे। हर घर तक नल का जल पहुंचा दिया गया है। हर घर तक पक्की गली नाली का निर्माण किया गया है। इसका मेंटेनेंस भी लगातार होता रहे जिससे लोगों को किसी प्रकार की असुविधा न हो।

बैठक में वित्त, वाणिज्य कर एवं संसदीय कार्यमंत्री विजय कुमार चौधरी, भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, मुख्य सचिव आमिर सुबहानी, विकास आयुक्त विवेक कुमार सिंह, गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद, पथ एवं स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत, शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह, ग्रामीण कार्य विभाग के सचिव पंकज कुमार पाल, शिक्षा विभाग के सचिव असंगवा चुवा आओ, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, भवन निर्माण विभाग के सचिव कुमार रवि, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, बिहार चिकित्सा आधारभूत संरचना निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक दिनेश कुमार सहित अन्य वरीय पदाधिकारीगण एवं अभियंतागण उपस्थित थे।

Find Us on Facebook

Trending News