कोरोना काल में पीएम दिन रात काम कर रहे है जबकि सीएम बिहार के लोगों को उनके हाल पर छोड़े हुए हैं : लोजपा

कोरोना काल में पीएम दिन रात काम कर रहे है जबकि सीएम बिहार के लोगों को उनके हाल पर छोड़े हुए हैं : लोजपा

PATNA : एक बार फिर लोक जनशक्ति पार्टी के तरफ़ से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद दिया गया है। उन्होंने कोविड में इस्तेमाल होने वाले सभी उपकरणो से कोविड वैक्सीन से और ऑक्सीजन से कस्टम duty खत्म किया है। लोक जनशक्ति पार्टी के प्रवक्ता वेद प्रकाश पाण्डेय ने कहा है कि हमारे प्रधानमंत्री दिन रात लोगों के लिए काम कर रहे हैं और एक हमारे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार की जनता को उसके हाल पर छोड़ दिया है. कोरोना के इस दौर में हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान जी ने इस हफ़्ते वीडियो conferencing से मीटिंग की. उस मीटिंग में चिराग़ पासवान जी ने निर्देश दिया है कि लोजपा को हमेशा अपने level से कोरोना ग्रसित बिहारवासियों की सेवा करनी है। हम सरकार के बहुत नीतियों के विरुद्ध तो हैं, पर विपत्ति की इस दौर लोजपा का हर एक कार्यकर्ता कंधे से कंधा मिलाकर बिहारवासियों के सेवा के लिए समर्पित है।

आगे लोक जनशक्ति पार्टी के प्रवक्ता वेद प्रकाश पाण्डेय ने कहा कि सरकार को बीते 2020 से ही कोरोना पर काम करना चाहिए था. ताकि आने वाले इस सुनामी पे act करे react नहीं। बिहार के लोगों की हालात ठीक वैसे हो गयी. नीतीश जी के राज में जैसे बिन पानी के तालाब में मछली। बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था 15 सालो में ठीक नही हो सका। लेकिन दावा ऐसा करते है नीतीश जी और उनके प्रिय कुछ अधिकारी की भारत में स्वास्थ्य के मामलों में बिहार नम्बर 1 है। बिहार में 2020 में ही कोरोना के समय नीतीश जी के द्वारा बोला गया था की सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में वेंटिलेटर की व्यवस्था की जाएगी। कहा गए वो वेंटिलेटर क्या अभी तक सौदा नही हो पाया पार्टियों से वेंटिलेटर का???  2020 के चुनाव में हमारे स्वास्थ्य विभाग के प्रधान महासचिव जो अभी भी उसी पद पे विराजमान है उनके द्वारा उस समय टेस्टिंग क़रीब रोज़ 1.45 लाख किया जा रहा था। पूरे बिहार में लेकिन आज वही आंकड़ा 1.10 लाख ही छू पा रहा है। क्या अधिकारी भी थक चुके है सरकार के झूठी बातों से??? क्या वह भी जान रहे है की अब बिहार में सब कुछ राम भरोसे है ???

उन्होंने कहा की कल प्रधान मंत्री ने सभी राज्यों मुख्यमंत्रियों से बात कर के उनको उनके राज्य के लिए ऑक्सीजन आवंटित किया है। बिहार को 300 टन ऑक्सीजन की ज़रूरत है लेकिन हमारे मुख्यमंत्री 194 टन पर ही संतुष्ट हो गए। बिहार को जो भी who का पैसा आता है वह पैसा कहा खर्च होता है?? सरकार के तरफ़ से क्यू नही कोई रोज़ इमरजेंसी बुलेटिन जारी होता है करोना को लेकर। सरकार ने नाइट कर्फ़्यू लगाया बिहार में किस सर्वे को देख कर??? बिहार में ऐसा कहा नाइट लाइफ़ है ओर नाइट सफ़ारी जहाँ लोगों की भीड़ होती है जो इसे रोकने के लिए नाइट कर्फ़्यू लगा गया। लगाना ही था तो संपूर्ण लॉक्डाउन लगाते पिछले वर्ष की तरह। उन्होंने कहा की लोक जनशक्ति पार्टी तभी आलोचना करती है जब काम बिहार सरकार आलोचना वाली काम करती है । लोक जनशक्ति पार्टी के एक नारा है बिहार फ़र्स्ट बिहारी फ़र्स्ट उस मेनिफ़ेस्टो को नीतीश जी के द्वारा एक बार अमल कर लिया जाता तो आज बिहार का ये हालात नही होता।

लोजपा ने आरोप लगाया की सुशासन बाबू आश्वासन बाबू बन गए हैं। बिहार ने फिर से ताज बिहार को शमशान और क़ब्रगाह मेन तब्दील करने की लिए नहीं पहनाया था। अब पद छोड़ने की बात क्यूँ नहीं करते। भाजपा के लिए ये सोचनीय विषय होना चाहिए।

Find Us on Facebook

Trending News