हेमंत सोरेन पर आ गया चुनाव आयोग का फैसला, नहीं रहेंगे विधानसभा अध्यक्ष, सीएम की कुर्सी पर भी फंस गया पेंच

हेमंत सोरेन पर आ गया चुनाव आयोग का फैसला, नहीं रहेंगे विधानसभा अध्यक्ष, सीएम की कुर्सी पर भी फंस गया पेंच

रांची. झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अयोग्यता पर चुनाव आयोग का फैसला आ गया है. सूत्रों के अनुसार आयोग ने उन्हें विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य ठहरा दिया है जिसकी घोषणा कुछ समय में की जा सकती है. हालांकि उनके चुनाव लड़ने पर रोक नहीं होगी यानी वे अगला चुनाव लड़ सकते हैं.  उन पर पत्थर खनन टेंडर खुद की कंपनी को देने के आरोप लगा था. एक तरह से यह पद का दुरूपयोग और खुद को लाभ पहुँचाने से जुड़ा मामला था. इसी में उनके खिलाफ चुनाव् आयोग ने आरोपों को सही माना है और उनकी सदस्यता रद्द करने पर निर्णय ले लिया है. 

चुनाव आयोग ने एक रिपोर्ट झारखंड के राज्यपाल को भी भेज दिया है. राज्यपाल के निर्णय के बाद किसी भी वक्त अब सोरेन को सीएम पद छोड़ना पड़ सकता है. झारखंड के राज्यपाल फ़िलहाल रांची में नहीं है. वे रांची पहुंचने वाले हैं. उसके बाद सोरेन के भविष्य पर बड़ा निर्णय होगा. हालांकि अभी चुनाव आयोग ने उनकी विधान सभा सदस्यता रद्द करने संबधी निर्णय पर कोई सार्वजनिक घोषणा नहीं की है. 

ऐसे में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जल्द ही अपना पद छोड़ सकते हैं. वे अपनी जगह अब पत्नी को मुख्यमंत्री बनवा सकते हैं. पिछले शनिवार को इसे लेकर एक बैठक भी हुई थी. वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने दावा किया कि हेमंत सोरेन की पत्नी को प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपने की तैयारी की जा रही है. 

भाजपा नेता निशिकांत दुबे ने कहा कि झारखंड में भाभी जी के ताजपोशी की तैयारी, परिवारवादी पार्टी का बेहतरीन नुस्ख़ा गरीब के लिए. माना जा रहा है कि हेमंत सोरेन की पत्नी कल्पना सोरेन अगर विपरीत परिस्थिति बनी तो राज्य की कमान संभाल सकती हैं.


Find Us on Facebook

Trending News