फांसी लगाकर आत्महत्या करने के 24 घंटे बाद भी घटना स्थल पर नहीं पहुंची पुलिस, अंत में बिना पोस्टमार्टम के हुआ अंतिम संस्कार

फांसी लगाकर आत्महत्या करने के 24 घंटे बाद भी घटना स्थल पर नहीं पहुंची पुलिस, अंत में बिना पोस्टमार्टम के हुआ अंतिम संस्कार

खगड़िया। जिले के बेलदौर पुलिस की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। एक युवक की फांसी लगने से संदिग्ध मौत हो गई। लोगों ने पुलिस को घटना की जानकारी दी। परिजन पुलिस के आने का 24 घंटे तक इंतजार करते रहे, लेकिन थाने से कोई नहीं पहुंचा। आखिरकार धैर्य खत्म हो गया और बिना पंचनामा और पोस्टमार्टम के ही शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

मामला बेलदौर प्रखंड अंतर्गत माली पंचायत के वार्ड नं 10 हाजीनगर निवासी राजेंद्र मुखिया का पुत्र अमित कुमार ने दुपट्टा से फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिया। जानकारी के मुताबिक अमित कुमार रविवार को देर शाम घर से बाहर कहीं घूमने गए थे रात बितने के बाद भी जब उक्त युवक घर नहीं आया तो युवक का मां खोज बीन करने लगे वहीं सुबह लगभग 11 बजे कुछ बच्चे बगल में खेल रहे थे तो उसी में एक बच्चे ने देखा कि मकान के पीलर में एक युवक झुल रहा है फिर ग्रामीणों ने उसके पास गया और उसे नीचे उतार कर देखा तो उक्त युवक मर चुका था। इस बात की जानकारी जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीणों ने बेलदौर थाना अध्यक्ष शिव कुमार यादव को दिया। लेकिन देर शाम तक बेलदौर थाना अध्यक्ष घटना स्थल पर नहीं पहुच सके यहां तक कि एक चौकीदार को भी बेलदौर थाना अध्यक्ष घटनास्थल पर नहीं भेजना उचित नहीं समझा। जिस कारण देर शाम तक शव के पास मृतक के मां रोती बिलखती रही।  अंत में कुछ ग्रामीणों के सहयोग से शाम को शव को बिना पोस्टमार्टम के ही दाह-संस्कार कर दिया। अब भी 24 घंटे बीत जाने के बाद भी घटनास्थल पर पुलिस प्रशासन नहीं पहुंचने की जानकारी मिल रही है। 

जानकार का मानें तो इस तरह के घटना घटने पर शव का पोस्टमार्टम कराना जरुरी है। कम से कम युडी केस तो पुलिस को करना ही चाहिए था। ग्रामीण चर्चा कर रहे थे कि पुलिस किसके दवाव में घटना स्थल पर नहीं पहुचे और शव को पोस्टमार्टम क्यों नहीं कराया गया? ये जांच का विषय बनता है? मृतक के परिजनों से मिलने के बाद ग्रामीण तरह-तरह के चर्चा करते हुए पुलिस प्रशासन को भी कोंसते हुए देखा गया। बोल रहे थे मृतक काफी गरीब है इसके आगे पीछे कोई नहीं है जिस कारण थाना अध्यक्ष घटना स्थल पर आना उचित नहीं समझें हैं। आखिर समझदार युवक अपने आप कैसे मर गया?या कौई मार दिया? मरने या मारने के पीछे क्या कारण हो सकता है? ये जांच का विषय है।

एसपी ने कहा परिजन नहीं चाहते किसी प्रकार का केस

मृत युवक तीन भाई और चार बहन में सबसे छोटा था। मृतक की बहन कुंदन कुमारी ने अपने भाई को मुखाग्नि दिए। जब इस संबंध में बेलदौर थाना अध्यक्ष से जानकारी लेने का प्रयास किया तो उनका मोबाईल टावर से बाहर बताया। गोगरी एसडीपीओ मनोज कुमार ने बताया कि हमें भी मामले की जानकारी नहीं है अभी हम बेलदौर थाना अध्यक्ष से बात कर आपको जानकारी दे रहा हूं। खगड़िया एसपी अमितेश कुमार बोले थाना अध्यक्ष शिव अमित के अनुसार परिजन मामला दर्ज कर नहीं चाहते हैं इसलिए केस नहीं किया गया है। जब परिजन आवेदन देंगे तो कानूनी कार्यवाही किया जाएगा। थाना अध्यक्ष को आदेश दे दिया गया है कि घटना स्थल पर जाकर परिजनों का वीडियो एसपी कार्यालय में समर्पित करने का निर्देश दिया गया है

Find Us on Facebook

Trending News