बोधगया में पैक्स की धांधली से परेशान हैं किसान, बीडीओ ने की गोदाम की जांच

बोधगया में पैक्स की धांधली से परेशान हैं किसान, बीडीओ ने की गोदाम की जांच

BODH GAYA : बोधगया प्रखंड में पैक्स द्वारा धान खरीदी में अनियमितता बरते जाने का आरोप बोधगया प्रमुख मायादेवी ने लगाया है ।इस अनियमितता में अधिकारियों की भी मिलीभगत बताई गई है। आरोप है कि धान खरीदी में धांधली कर पैक्स अध्यक्ष अपने जेब गर्म किए हैं। सरकार धान खरीदी के लिए पैक्स को अधिकृत किया है। किसानों के उत्थान एवं विकास के लिए पैक्सों का चुनाव किसानों के द्वारा किया जाता है। 

मामला कुरमांवा पंचायत से जुड़ा है जहां गांव के ही राकेश कुमार ने बताया कि 20 पैकेट धान पैक्स में दिए थे ,इसमें 1700 रुपए की रेट से हमें धान की कीमत  दी गई थी। साथ ही एक पैकेट धान पर दो से ढाई किलो वजन काट ली गई थी। वहीं गांव के वार्ड सदस्य के पति सुदर्शन प्रसाद ने बताया कि कुरमावा में पैक्स अध्यक्ष के द्वारा अपने ही लोगों से धान की खरीदी की जाती है, बाकी किसानों से धान नहीं ली जाती। इस मामले में प्रखंड प्रमुख मायादेवी उचित कार्रवाई  की मांग की है, साथ ही अनियमितता मे संलिप्त रहने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की है। 

इसके अलावा ग्रामीण ने बताया कि पैक्स गोदाम हमेशा बंद रहती है। प्रमुख ने आगे कहा पैक्स अध्यक्ष धान खरीदी के लक्ष्य की पूर्ति मिलर से चावल लेकर करते हैं। लगभग सौ की संख्या में ग्रामीणों ने पैक्स अध्यक्ष पर आरोप लगाते हुए कहा जन वितरण कि दुकान में अनाज की भारी कटौती की जा रही है। ग्रामीणों ने कहा कि हमलोग को चार रुपए किलो चावल और गेहूं भी उसी दर से दी जाती है। इसके अलावा अनाज भी कम दी जा रही है। साथ ही वितरण करने वाले लोगो से धमकी भी दी जाती है कहा जाता है कि जहां जाना है जाएं, कुछ नहीं होने वाला है हमे ज्यादा बोलेगा तो राशन कार्ड भी निरस्त करवा देंगे। 


इस मामले में प्रखंड विकास पदाधिकारी के द्वारा गुरुवार को पैक्स गोदाम कुरमांवा मे पहुंचकर जांच की गई और लोगो को शांत कराया गया। वहीं प्रखंड विकास पदाधिकारी सतीश कुमार ने ग्रामीणों से लिखित तौर पर शिकायत कराने को कहा और आश्वासन दिया इस अनियमितता पर कार्रवाई जरूर करेंगे। जबकि पैक्स अध्यक्ष रवि शंकर यादव ने कहा कि ये आरोप झूठ है सरकार कि गाइडलाइन के मुताबिक यहां पैक्स मे खरीदी और पीडीएस मे विक्रय की जाती है।  

ग्रामीणों ने कहा की हमलोग को इंसाफ चाहिए क्योंकि आए दिन यहां इस तरह कि समस्या होती रहती है। उसके बाद प्रखंड विकास पदाधिकारी ने सरकारी विद्यालय का भी जांच किया गया। जांच के दौरान पढ़ने वाले बच्चो से स्कूल कि स्थिति का जायजा लिया गया, इसके अलावा विद्यालय कि रशोई घर कि भी जांच की गई थी।

Find Us on Facebook

Trending News