जिलों में क्रिकेट के बढ़ावा को लेकर करेंगे आर्थिक मदद

जिलों में क्रिकेट के बढ़ावा को लेकर करेंगे आर्थिक मदद

पटना: बिहार क्रिकेट संघ के जिला संघों के प्रतिनिधि संजय कुमार सिंह ने जिलों को अपने निजी कोष से मदद करने का फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि यह काम कई फेज में पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिलों मे क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए वे अपनी तरफ से प्रत्येक जिले को 25-25 हजार की राशि प्रदान करेंगे। इसकी शुरूआत पहले तीन जिलों से होगी। उसके बाद तीन-तीन जिलों का चयन कर काम को आगे बढ़ाया जाएगा। 

इसकी शुरूआत एक-दो दिनों के अंदर कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि मुझसे ज्यादा जिलों का दर्द कोई नहीं समझ सकता है। बीसीए के पूर्व सचिव अजय नारायण शर्मा और रविशंकर प्रसाद के कार्यकाल में जिलों ने अपने खर्च पर पूरे बिहार में क्रिकेट कराया था। उस परिस्थिति में भी बिहार के जिले ने हार नहीं मानी और क्रिकेट के लिए अपना तन,मन और धन लगा दिया। श्री सिंह ने कहा कि मैंने सेलेक्टर और कोच के साथ हुई बैठक में भी जिलों में माइक्रो लेवल पर काम करने पर जोर देने की वकालत की है। उन्होंने कहा कि गांव की मिट्टी की खुशबू काफी सौंधी होती है और वहीं से बिहार क्रिकेट के कर्णधार पैदा होते हैं। 

इसलिए जिलों में इंफ्रास्ट्रक्चर को सुदृढ़ करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वर्तमान कमेटी जिलों का विकसित करने के लिए प्लान तैयार कर रही है। इसके लिए पहले फेज में जिलों से प्लान मांगा गया है। उन्होंने कहा कि पटना के अलावा उन बड़े जिलों में भी संभावनाएं तलाशी जा रही है। वहां भी पटना की तरह क्रिकेट का हब तैयार किया जाएगा। सेलेक्टर और कोच के सुझाव पर क्रिकेट को विकसित करने मसौदा तैयार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि खिलाडियों का भी इंश्योरेंस कराने का सुझाव आया है। 

माननीय अध्यक्ष राकेश तिवारी ने भी इस विषय पर भी प्राथमिकता पूर्वक विचार करने की स्वीकृति दी है। अगर स्थिति ठीक ठाक रही तो इस बार कोचेच के सुझाव के अनुसार टीम पहले तैयार कर सौंपने की तैयारी की जाएगी। ताकि कोचेच उसपर बढ़िया काम कर सकें। काफी दिनों के बाद बिहार को मान्यता मिली है ,इसलिए अभी  खिलाडियों को परेशानी आ रही है। इसबार बढ़िया ट्रेनर और फिजियो की व्यवस्था की जाएगी ताकि हमारे बिहार के खिलाड़ी मानसिक रूप से विपक्षी से मुकाबला करने के लिए तैयार रहें।

Find Us on Facebook

Trending News