UP में ‘मुर्दा’ उतरा चुनाव में! जानिये क्या है पूरा मामला

UP में ‘मुर्दा’ उतरा चुनाव में! जानिये क्या है पूरा मामला

DESK... अगर आप को 20 साल पहले मृत घोषित कर दिया गया हो और इसके कारण आप की सारी संपति किसी और को दे दी जाये तो उस इंसान को कैसा महसूस होगा, ऐसा मामला उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय से आ रही है. जहां एक “मुर्दा” पंचायत चुनाव के लिए उतर गया है चौकिये मत संतोष को 20 साल पहले कागजों पर मुर्दा घोषित किया जा चुका है. संतोष अपने जिंदा होने की लड़ाई पिछले 20 सालों से लड़ रहे हैं. 

चौबेपुर के छितौनी गांव के रहने वाले संतोष ने बीडीसी चुनाव का नामांकन भर  दिया है. संतोष का कहना है कि भीख मांगकर चुनाव में नामांकन भरने के लिए पैसे जुटाए और प्रस्तावक भी भीख मांगकर मिला है. इसके अलावा उन्होंने बताया कि न्याय की भीख 20 साल से मांगकर थक चुके हैं.  मानवाधिकार आयोग ने उनके मामले में वाराणसी के डीएम को तलब भी किया है, जिससे उन्हें कुछ उम्मीद बंधी है, लेकिन अभी तक संतोष को कागजों पर जिंदा नहीं किया गया है. 

संतोष गले में एक बैनर टांग कर घुमता रहता है जिसपर लिखा है मैं जिंदा हूं. संतोष के मुताबिक पाटीदारों ने उन्हें कागजों पर मृतक दिखाकर 12.5 एकड़ जमीन हड़प ली. उन्होंने जिला प्रशासन से जुडे सभी अधिकारियों से गुहार लगाई लेकिन उनकी कोई बात नहीं बनी. इसलिए अब उन्होंने चुनाव लड़ने का फैसला किया है. अब देखना दिलचस्प होगा “मुर्दा” चुनाव जीतेगा क्या संतोष को जिंदा किया जायेगा क्या उसकी संपति उसको वापस मिल पायेगी या नहीं.    

Find Us on Facebook

Trending News