मोबाइल से खुला हत्या का राज : मां, सौतेले बाप और मामा ने मिलकर बेटी को उतारा था मौत के घाट

मोबाइल से खुला हत्या का राज : मां, सौतेले बाप और मामा ने मिलकर बेटी को उतारा था मौत के घाट

Nawada : जिले से एक बड़ी खबर सामने आई है। बीते दिनों जिले के हिसुआ थाना क्षेत्र में हुए 18 वर्षीय रितिका हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा किया है। मां ने ही अपने आशिक और भाई के साथ मिलकर बेटी को मौत के घाट उतारा था।  

हिसुआ थानाध्यक्ष राजीव कुमार पटेल ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि मृतका रितिका उम्र 18 वर्ष की हत्या गला दबाकर उसकी मां ने अपने आशिक गौरव भारद्वाज और भाई के साथ मिलकर की थी। उन्होंने बताया कि पूछताछ में तीनों ने बताया कि मां ने बेटी का हाथ पकड़ा था। सौतले बाप ने गला दबाया और उसके बाद लड़की के मामा ने धारदार हथियार से गला रेतकर  शव को मंझवे  के समीप चितरघट्टी रोड के किनारे पाईन में फेंक दिया था।

कॉल डिटेल से खुला हत्या का राज


थानाध्यक्ष ने बताया कि युवती के पोस्टमार्टम के दौरान उसका मोबाइल उसके कपड़े में था। जब मोबाईल कॉल डिटेल्स निकाला गया तो शक की सुई मृतिका की मां पुष्पा देवी , मामा पंकज कुमार एवं गौरव भारद्वाज पर गई। जिसके बाद तीनो को गिरफ्तार किया गया। जब कड़ाई से पूछताछ की गई तो तीनों ने हत्या का राज खोल दिया। 

मां की दूसरी विवाह से विरोध करती थी मृतिका

पुलिस के अनुसार मृतिका की विधवा मां पुष्पा देवी ने नरहट प्रखंड के छोटी पाली गाँव निवासी राजकुमार सिंह के पुत्र गौरव भारद्वाज से दूसरी शादी की है। पुष्पा देवी अपने दो पुत्री 18 वर्ष और 14 वर्ष और एक पुत्र 8 वर्ष के साथ अपने मायके हिसुआ प्रखंड के ओडो गांव और ससुराल गया दुमुहनिया छोड़कर हिसुआ नगर के वार्ड 6 स्थित बढई बिगहा में रहती थी।


पुष्पा देवी के 18 वर्षीय पुत्री रितिका अपनी मां के दूसरे विवाह और पति के साथ देखकर विरोध करती थी। जिसके कारण पूरी प्लान के साथ अपनी ही बेटी की हत्या कर दी।बताते चलें कि विगत 10 अगस्त की सुबह पुलिस ने मंझवे पहाड़ी के समीप चितरघट्टी रास्ते के पाईन से एक अज्ञात 18 वर्षीय युवती का गला रेता हुआ शव बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए नवादा भेजा था। शव का शिनाख्त नहीं हो पाया था। घटना के जांच में जुटी पुलिस को लड़की के पास रहे मोबाईल ने किया मदद से परिजन तक पहुंचा गया।

नवादा से अमन सिन्हा की रिपोर्ट



Find Us on Facebook

Trending News