नीतीश को अभी खुश रखना चाहते हैं तेजस्वी! कहा- हमें CM बनने की जल्दीबाजी नहीं, चाहने वाले तो मांग करेंगे ही

नीतीश को अभी खुश रखना चाहते हैं तेजस्वी! कहा- हमें CM बनने की जल्दीबाजी नहीं, चाहने वाले तो मांग करेंगे ही

पटना. डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को लेकर बिहार में सियासी सरगर्मी तेज है। राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने 2023 में तेजस्वी के बिहार के सीएम बनने वाले बायन देकर बिहार की सियासत में भूचाल ला दिया है। जदयू के लिए यह बयान काफी मुश्किल भरा हो गया था। आरजेडी के इस रहस्योद्घाटन के बाद जदयू नेताओं के पांव के नीचे से जमीन खिंसक गयी थी। जदयू के तमाम नेता इस बोलने से बचते दिखे। विवाद बढ़ता देख तेजस्वी यादव सामने आये हैं। उन्होंने कहा है कि हमें मुख्यमंत्री बनने की हड़बड़ी नहीं है। सीएम नीतीश के नेतृत्व में ही बिहार में ठीक ठाक सरकार चल रही है। तेजस्वी यादव ने कहा कि चाहने वालो तो इस तरह की मांग करते रहते हैं। लेकिन हमें न तो हड़बड़ी है और न ही मुख्यमंत्री बनने की लालसा है।

बिहार तेजस्वी का इंतजार कर रहा- जगदानंद 

राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने दिल्ली में ये बातें कही हैं। उन्होंने गुरूवार को कहा था कि देश नीतीश का इंतजार कर रहा है और बिहार तेजस्वी का इंतजार कर रहा है। मीडिया ने उनसे दोबारा पूछा कि क्या सीएम पद सौंप देंगे नीतीश तो जगदानंद सिंह ने कहा- और क्या, प्रशासनिक ओहदा तो वही है ना। हमारी कार्यपालिका की शक्ति मुख्यमंत्री में निहित है। मुख्यमंत्री ही अपने राज्य को आगे ले जाने का जिम्मेवार व्यक्ति होता है। देश इंतजार कर रहा है नीतीश का और बिहार इंतजार कर रहा है तेजस्वी का।  

जवाब देने में छूट रहे पसीने

तेजस्वी यादव की तरफ से राजद के प्रदेश अध्यक्ष ने खुल्लमखुल्ला ऐलान कर दिया, दूसरी तरफ जेडीयू नेताओं को जवाब देने में पसीने छूट रहे। क्या बड़ा क्या छोटा....किसी नेता में साफ-साफ बोलने या फिर जगदानंद सिंह की बात को काटने का सामर्थ्य नहीं। जगदानंद सिंह के बयान के बाद जेडीयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने बहुत नपे तुले शब्दों में तंज कसा था। उन्होंने कहा कि जगदा बाबू का बयान उस पिता के एक्शन की तरह है, जो किसी अनहोनी के भय से अपने बेटा या बेटी की शादी जैसे-तैसे निपटा लेना चाहता है। 

राजद के आगे जेडीयू नेताओं ने टेके घुटने 

आज जब जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह से इस मुद्दे पर सवाल पूछा गया तो वे प्रदेश अध्यक्ष की तरफ सवाल को टाल कर निकलने में ही अपनी भलाई समझी। आखिर यह टफ सवाल जो था......। जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष के जब जगदानंद सिंह से जुड़ा सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम इस तरह के बयानों की नोटिस नही लेते हैं। हर चीज पर बयान दें यह जरूरी नहीं। हम नोटिस नही लेते . यानी नोटिस नहीं लेने की बात कर वे भी तेजस्वी यादव के मुख्यमंत्री बनने की बात को टालते दिखे। नीतीश कैबिनेट में जेडीयू कोटे के मंत्रियों की भी हालत खराब है। जवाब देने में मंत्रियों को भी भारी परेशानी है। एक तरफ कुआं है तो दूसरी तरफ खाई। ऐसे में बेचारे मंत्री कहें तो क्या....। भवन  निर्माण मंत्री अशोक चौधरी से जब तेजस्वी की ताजपोशी करने के राजद नेताओं के बयान पर पूछा गया तो उन्होंने कहा कि किसी के व्यक्तिगत विचार और बेतुके बयान पर रिएक्ट करने की जरूरत नहीं है. यानी यह भी साफ-साफ बोलने से बचते दिखे।


Find Us on Facebook

Trending News