रांची में VIP की बैठक, मुकेश सहनी बोले- झारखंड में भी अब निषाद समाज की पहचान 'नाव' दौड़ेगी

रांची में VIP की बैठक, मुकेश सहनी बोले- झारखंड में भी अब निषाद समाज की पहचान 'नाव' दौड़ेगी

Desk. बिहार और उत्तर प्रदेश के बाद विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) की नजर अब झारखंड पर है। वीआईपी प्रमुख और बिहार के पूर्व मंत्री मुकेश सहनी  रविवार को रांची में पार्टी की बैठक की। इसमें उन्होंने कहा कि अब झारखंड में भी निषाद समाज की पहचान 'नाव ' दौड़ेगी। रांची प्रेस क्लब में आयोजित इस बैठक में झारखंड के लगभग सभी जिलों से लोग आये।

पार्टी की इस बैठक में राज्य समिति बनाने पर गहन विचार विमर्श किया गया। वीआईपी प्रदेश अध्यक्ष को लेकर तीन से चार नामों पर विचार किया गया, लेकिन इसकी घोषणा नहीं की गई। माना जा रहा है कि पार्टी प्रमुख सोमवार को आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में इसकी घोषणा करेंगे। 

बैठक को संबोधित करते हुए सहनी ने कहा कि आज के दौर में राजनीति भले ही कमाई का जरिया बन गया हो, लेकिन वीआईपी के लिए राजनीति मात्र सेवा भाव और हाशिए में पड़े लोगों का उत्थान करना है। उन्होंने कहा कि झारखंड राज्य की स्थापना का उद्देश्य आदिवासियों, गरीबों, निषादों सहित पिछड़े लोगों का विकास करना था। झारखंड में राजनीतिक अस्थिरता के कारण अब तक सही ढंग से विकास नहीं हो पाया। 

उन्होंने कहा कि झारखंड अब उम्र के हिसाब से युवा हो गया, फिर भी इसका विकास नहीं हुआ। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि यहां निषादों के लिए और समस्या है। निषादों का मुख्य पेशा मछली पालन है, लेकिन झारखंड में नदियों की संख्या भी कम है। 'सन ऑफ मल्लाह' के नाम से चर्चित मुकेश सहनी ने कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए कहा कार्यकर्ता ही पार्टी के रीढ़ होते हैं। दावा करते हुए उन्होंने कहा कि वीआईपी झारखंड में अब महत्वपूर्ण विकल्प बनेगा। 

इससे पूर्व मुकेश सहनी के रांची हवाई अड्डे पर पहुंचने पर वीआईपी के कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। बैठक में उपस्थित वीआईपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता देव ज्योति ने कहा कि झारखंड के विकास के लिए अब तक किसी राजनीतिक दल ने समर्पण और आत्मविश्वास के साथ कोशिश ही नहीं की है। 

उन्होंने कहा कि झारखंड में कमोबेश सभी राजनीतिक दल सत्ता तक पहुंचे, लेकिन उनकी प्राथमिकता सिर्फ कुर्सी और खुद का विकास रहा। इस बैठक में वीआईपी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष संतोष सहनी, झारखंड प्रदेश प्रभारी चंदन कुमार सहनी, प्रो. डॉ. राजकुमार चौधरी, सरजू केवट, मोतीलाल सरकार, डॉ. राजकुमार बिन्द, मेजर बद्री सहनी सहित कई लोग मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

Find Us on Facebook

Trending News