गठबंधन टूटा तो अखिलेश यादव ने वापस ले ली गिफ्ट की हुई कार, विधानसभा चुनाव से पहले दिया था तोहफे में

गठबंधन टूटा तो अखिलेश यादव ने वापस ले ली गिफ्ट की हुई कार, विधानसभा चुनाव से पहले दिया था तोहफे में

DESK : यूपी के विधानसभा चुनाव 2022 से पहले सपा से आए हुए दलों की राह अब जुदा हो रही है। विधान परिषद में सीट के बंटवारे को लेकर समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करने वाले महान दल ने समर्थन वापस लेने का फैसला किया है। वहीं महान पार्टी के इस फैसले से अखिलेश यादव इतने नाराज हो गए कि उन्होंने महान दल के अध्यक्ष केशव देव मौर्य को तोहफे में दी गई फार्च्यूनर कार वापस ले ली। यह कार उन्होंने सात माह पहले तब दी थी, जब पार्टी के साथ उनका गठबंधन हुआ था। अब साथ नहीं कार भी नहीं।

दरअसल, गठबंधन के बाद भी चुनाव में महान दल को एक भी सीट नहीं मिली। लेकिन केशव प्रसाव मौर्य शांत रहे। विधानसभा चुनाव के बाद जब विधान परिषद, राज्यसभा तथा विधान परिषद चुनाव में उनकी पार्टी को नहीं पूछा गया तो केशव देव मौर्य को यह समझ में आ गया कि अखिलेश यादव के साथ अब चलना मुश्किल है और उन्होंने अपना रास्ता बदलने का फैसला कर लिया। केशव देव मौर्य ने समाजवादी पार्टी से गठबंधन समाप्त कर लिया, यानी समर्थन को वापस ले लिया।

और ले ली कार वापस

महान पार्टी अध्यक्ष के द्वारा गठबंधन तोड़े जाने के इस फैसले से अखिलेश यादव इतने गुस्से में आ गए कि उन्होंने गिफ्ट की हुई फार्च्यूनर कार वापस मांग ली। केशव देव मौर्य के पास फार्च्यूनर करीब सात महीने रही। अखिलेश यादव ने उन्हें यह कार चुनाव में घूमने के लिए गिफ्ट के तौर पर दी थी।

ऐसी सौ गाड़ियों को खरीदने की हैसियत

अब केशव प्रसाद मौर्य ने कार वापस कर दी है। इस दौरान केशव देव मौर्य ने कहा कि हम ऐसी सैकड़ों गाडिय़ां खरीद सकते हैं। अगर कार्यकर्ताओं के चंदे का पैसों का इस्तेमाल गाडिय़ों में करने लगे तो हम एक ही दिन में सैकड़ों गाड़ी खरीद लेंगे, लेकिन हम कार्यकर्ताओं की मेहनत का पैसा सुविधाओं के लिए नहीं उड़ाते। फार्च्यूनर गाड़ी समाजवादी पार्टी के नाम से रजिस्टर्ड है। हमने मना किया तो कहा गया, यह गठबंधन का गिफ्ट है आप अब इसी से चलेंगे।


Find Us on Facebook

Trending News