युवक की हत्या कर शव को तेजाब से जलाया, नौ साल पुराने कर्म बने हत्या की वजह

युवक की हत्या कर शव को तेजाब से जलाया, नौ साल पुराने कर्म बने हत्या की वजह

MASAURHI : धनरुआ थाना क्षेत्र के रामबाग मधुबन खंधे में पिछले दस दिन से लापता युवक की लाश बरामद की गई है। लाश की शिनाख्त नहीं हो सके, इसके लिए उसके चेहरे को तेजाब से जलाने की कोशिश की गई है। बरामद शव थाने के नीमा गांव निवासी ह्रदय शर्मा के पुत्र 22 वर्षीय दीपक कुमार का है।  हालांकि पुलिस का कहना है कि उसके परिजनों के कपड़े से युवक की शिनाख्ती की है। जबकि पुलिस वैज्ञानिक तरीके से शव की पहचान करने में जुटी है।

शव शनिवार की सुबह उस वक्त बरामद हुआ जब कुछ बच्चे पास स्थित एक खेत में क्रिकेट खेल रहे थे। परिजन बताते हैं कि दीपक 9 जुलाई की रात से घर से गायब था। उसकी पत्नी धनरुआ थाने में अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराने गई थी पर पुलिस दर्ज नहीं की। पत्नी और ग्रामीणों का आरोप है कि 9 जुलाई की शाम को उसके कुछ दोस्त घर आए थे और उसे एक पार्टी में ले जाने की बात कहकर साथ ले गए। बाद में जब वह नहीं लौटा तो परिजन खोजबीन करने लगे, बावजूद उसका कहीं पता नहीं लग सका।

बदले की भावना से की गई हत्या 

परिजनों ने मृतक दीपक की हत्या बदले की भावना से किये जाने की आशंका जाहिर की है। बताया जाता है कि 19 जुलाई 2012 को गांव के ही विजेंद्र शर्मा की हत्या हुई थी जिसमें मृतक दीपक कुमार, उसके पिता ह्रदय शर्मा व उसकी मां कुसुम देवी को नामजद  आरोपित बनाया गया था। इस मामले में दीपक के पिता ह्रदय शर्मा फिलहाल भागलपुर जेल में बंद हैं। घटना के बाद से दीपक नौ साल से फरार था। ग्रामीणों की मानें तो वह दस दिन पूर्व ही गांव आया था। फिलहाल पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

मामले में धनरुआ पुलिस का कहना है कि शव को देखने से ऐसा प्रतीत हो रहा था कि उसकी हत्या एक सप्ताह पूर्व ही कर दी गई है। परिजन के द्वारा कोई लिखित आवेदन नहीं दिया गया है। लिखित देने के बाद पुलिस कार्रवाई करेगी।

Find Us on Facebook

Trending News