वैक्सीन के साथ बीमारी फ्री: नवादा में कोविशील्ड की दोनों डोज खत्म, कोवैक्सीन की सेकेंड डोज मौजूद, सेंटर पर गंदगी इतनी कि चौंक जाएंगे आप

वैक्सीन के साथ बीमारी फ्री: नवादा में कोविशील्ड की दोनों डोज खत्म, कोवैक्सीन की सेकेंड डोज मौजूद, सेंटर पर गंदगी इतनी कि चौंक जाएंगे आप

NAWADA: नवादा जिले भर में कोरोना से बचाव को लेकर टीकाकरण पर जोर दिया जा रहा है। लेकिन फिलहाल जो स्थिति है, उससे टीकाकरण पूरी तरह प्रभावित होकर रह गया है। जिले में कोरोना वैक्सीन समाप्त हो गयी है। जिसके कारण जिले के सदर प्रखंड को छोड़कर अन्य प्रखंडों में टीकाकरण पूरी तरह बंद हो गया है। जिला स्वास्थ्य विभाग भी यह बताने की स्थिति में नहीं है कि कब तक वैक्सीन उपलब्ध हो पाएगी। जिसे लेकर आम लोगों की परेशानी बढ़ गई है। टीका नहीं रहने के कारण कई लोग स्वास्थ्य केंद्रों से बैरंग वापस लौट गए। नवादा मुख्यालय के संत जोसेफ पब्लिक स्कूल में को-वैक्सीन का दूसरा डोज दिया जा रहा है। इसके अलावा नवादा ग्रामीण क्षेत्र में दूसरा डोज दिया जा रहा है। पहला डोज का आंकड़ा जिला सहित अन्य प्रखंडों में शून्य पर रहा।

जिले में कोविशील्ड टीका पूरी तरह खत्म हो चुका है। वहीं को-वैक्सीन कुछ मात्रा में उपलब्ध है। जिससे सदर क्षेत्र में टीकाकरण चल रहा है। अगर एक-दो दिनों में वैक्सीन उपलब्ध नहीं कराई गई तो जिलेभर में टीकाकरण ठप हो जाएगा। इधर, केंद्रों पर टीकाकरण कराने पहुंचे लोगों ने कहा कि एक ओर अधिकारी लोगों को प्रेरित करने में जुटे हुए हैं। वहीं जो लोग टीका लेने पहुंच रहे हैं, उनके लिए वैक्सीन ही उपलब्ध नहीं है। इस प्रकार की स्थिति से टीकाकरण पूरी तरह बाधित हो रही है और लोगों को भटकना पड़ रहा है। यहां एक बात और गौर करने वाली है कि कुछ टीकाकरण केंद्रों पर इतनी गंदगी पसरी हुई है कि टीका लगवाने वाले डर से वापस चले जा रहे हैं। यहां लापरवाही का आलम यह है कि इस्तेमाल किए गए इंजेक्शन को यूं ही खुला फेंक दिया गया है। अब आप समझ सकते हैं कि इस्तेमाल की गई सुई अगर सही तरीके से डिस्पोज नहीं की गई तो इससे इंफेक्शन का खतरा कितना ज्यादा हो सकता है।

इस मसले पर सिविल सर्जन डॉ. अखिलेश कुमार मोहन ने बताया कि जिले में वैक्सीन खत्म हो गयी है। स्टेट से वैक्सीन उपलब्ध नहीं हुआ है। जिसके कारण यह समस्या उत्पन्न हुई है। उम्मीद है कि एक-दो दिनों में वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगा। उन्होंने बताया कि 1 जुलाई से पूरे बिहार में छह महीने में छह करोड़ का अभियान शुरू हो गया है। उम्मीद है कि उससे पूर्व पर्याप्त मात्रा में जिले को वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अशोक कुमार ने बताया है कि सभी प्रखंड में दूसरा डोज दिया जा रहा है। पहली डोज पूरी तरह खत्म हो चुकी है। सिर्फ को-वैक्सीन का दूसरा डोज सभी पीएससी में दिया जा रहा है। 


Find Us on Facebook

Trending News