कोऑपरेटिव बैंक डकैती मामले में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, तीन लाख करेंसी, शराब और हथियार बरामद

कोऑपरेटिव बैंक डकैती मामले में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, तीन लाख करेंसी, शराब और हथियार बरामद

BHAGALPUR/SULTANGANJ : डीएसपी डॉ गौरव कुमार के नेतृत्व में गठित टीम ने छापेमारी कर सुल्तानगंज के अब्जुगंज से भारी संख्या में जिंदा कारतूस, लोडेड पिस्टल देसी कट्टा के साथ तीन लाख बैंक करेंसी बरामद किया है। जिसमें 500 के नोट के कुल 4 बंडल शामिल हैं। पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर बड़ी कार्रवाई की है। सुलतानगंज थाना क्षेत्र के अबुगंज निवासी रामस्वरूप शाह के आवास पर पुलिस ने दल बल के साथ डीएसपी के नेतृत्व में दबिश दी। इस दौरान घर की छापेमारी की गई। एक बंद अलमीरा कि जब पुलिस ने छापेमारी शुरू की तो घर पर मौजूद महिलाओं ने चाबी नहीं होने का बहाना बनाते हुए टालमटोल किया लेकिन मौजूद पुलिसकर्मियों ने लाकर का ताला तोड़ दिया। जिससे पुलिस के होश उड़ गए पुलिस को लॉकर से ₹500 के 400 नोट और ₹200 की एक सील पैक गड्डी मिली जिसकी वैल्यू तीन लाख  है। करेंसी मिलते ही पुलिस ने घर में ताबड़तोड़ छापेमारी शुरू कर दी जिसके बाद पुलिस को विदेशी शराब और हथियार मिले हैं। 

30 सितंबर की है घटना

पुलिस का कहना है कि बीते 30 सितंबर को हुए कोऑपरेटिव बैंक डकैती मामले से तार जुड़े हुए हैं। विश्वस्त सूत्रों की माने तो बैंक डकैती में 19 बंडल 200 के नोट भी शामिल थे और रामस्वरूप शाह के बंद गोदरेज से 200 के यही नोट बरामद हुए हैं। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए रामस्वरूप  को गिरफ्तार कर लिया। डीएसपी ने बताया कि रामस्वरूप शाह बेटा जीतू उर्फ जितेंद्र फरार है। जिसकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

दहशत फैलाता था जीतू, गस्ती गाड़ी पर भी कर चुका था हवाई फायरिंग

पुलिस ने रामस्वरूप साह के घर पर छापेमारी कर कैश और हथियार बरामद किए हैं। डीएसपी का कहना है कि रामस्वरूप शाह और उसके बेटे जीतू का पुराना आपराधिक इतिहास रहा है। जीतू क्षेत्र में लगातार हवाई फायरिंग करके लोगों को डराता रहता था। साथ ही लोगों के साथ बदसलूकी भी करता था। डीएसपी ने बताया कि कुछ दिन पूर्व सुल्तानगंज के गस्ती गाड़ी को देखकर जीतू ने हवाई फायरिंग कर दी थी लंबे समय से जीतू की तलाश स्थानीय पुलिस को दी।

बैंक डकैती से जुड़े हैं करेंसी के तार

डीएसपी डॉ गौरव कुमार ने सुल्तानगंज थाने में पत्रकारों से बातचीत में बताया कि छापेमारी के दौरान बरामद करेंसी बैंक डकैती के हैं। पुलिस इस दिशा में ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है। डीएसपी के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया। जिसमें सर्किल इंस्पेक्टर रतनलाल ठाकुर, सुलतानगंज थाना के पुलिस पदाधिकारी अशोक सिंह, सुनील तिवारी, विनोद कुमार ,अभिमन्यु कुमार शामिल हैं।

बैंक डकैती से जुड़े अभियुक्तों की कुंडली खंगालने में जुटी पुलिस

तीन लाख करेंसी नोट बरामद होने के बाद पुलिस ने अपनी कार्रवाई तेज कर दी है। डीएसपी के नेतृत्व में सुल्तानगंज के पुलिस पदाधिकारियों की बैठक सुलतानगंज थाना अध्यक्ष के कार्यालय में हुई। डीएसपी ने पुलिस पदाधिकारियों को केस के फाइल से महत्वपूर्ण सुराख निकालने के निर्देश दिए हैं। डीएसपी के नेतृत्व में रात भर सुल्तानगंज में छापेमारी जारी रही।

डीएसपी डॉ गौरव कुमार ने बताया कि बैंक डकैती से जुड़े मामले के उद्भेदन के लिए लगातार क्षेत्र में छापेमारी की जा रही थी। रविवार को मेरे नेतृत्व में गठित टीम ने विभिन्न क्षेत्रों में छापेमारी अभियान चलाया। जिसमें रामस्वरूप साह के घर से बैंक करेंसी बरामद हुए हैं। इसके तार बैंक डकैती मामले से जुड़े हुए हैं। पुलिस इस दिशा में अग्रसर कार्रवाई कर रही है। फिलहाल रामस्वरूप को गिरफ्तार कर लिया गया है। छापेमारी के दौरान करेंसी के साथ-साथ हथियार और कारतूस भी बरामद हुए हैं। शराब की बोतल भी पुलिस के हाथ लगी है।

Find Us on Facebook

Trending News