सोनिया गांधी के खास नेता ने किया राष्ट्रपति का अपमान, द्रौपदी मुर्मू को 'राष्ट्रपत्नी' कहने पर भाजपा हुई हमलावर

सोनिया गांधी के खास नेता ने किया राष्ट्रपति का अपमान, द्रौपदी मुर्मू को 'राष्ट्रपत्नी' कहने पर भाजपा हुई हमलावर

DESK. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अधीर रंजन चौधरी के राष्ट्रपति के लिए 'राष्ट्रपत्नी' शब्द का इस्तेमाल करने से हंगामा मच गया है. प्रवर्तन निदेशालय के सोनिया गांधी से पूछताछ के खिलाफ कांग्रेस के प्रदर्शन सहित महंगाई और अग्निपथ योजना को लेकर तथा सांसदों के निलम्बन के मामले में शुक्रवार को भी संसद भवन परिसर में कांग्रेस का प्रदर्शन जारी है. एक समाचार चैनल से बात करने के दौरान अधीर रंजन चौधरी से जब प्रदर्शन को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि धरना देंगे, मार्च करेंगे, प्रदर्शन करेंगे। अभी बहुत कुछ करना बाकी है। इसके बाद रिपोर्टर ने कहा कि कल आप राष्ट्रपति भवन जा रहे थे, जाने नहीं दिया गया। इसके जवाब में कांग्रेस नेता ने कहा कि आज भी जाने की कोशिश करेंगे। 

इसके बाद अधीर रंजन चौधरी की ओर से जो टिप्पणी की गई वह राष्ट्रपति पद की गरिमा के खिलाफ रही। अपने बयान में चौधरी ने कहा कि हिंदुस्तान की राष्ट्रपति सबके लिए है। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान की 'राष्ट्रपत्नी' सबके लिए है। हमारे लिए क्यों नहीं। उनके राष्ट्रपति को राष्ट्रपत्नी कहने पर अब भाजपा भी हमलावर हो गई है। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने जबरदस्त तरीके से अधीर रंजन चौधरी के बहाने कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल उठाए हैं। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि जब से द्रौपदी मुर्मू का नाम राष्ट्रपति के उम्मीदवार के रूप में घोषित हुआ तब से ही द्रौपदी मुर्मू कांग्रेस पार्टी की घृणा और उपहास का शिकार बनीं। कांग्रेस पार्टी ने उन्हें कठपुतली कहा, अशुभ और अमंगल का प्रतीक कहा।

स्मृति ईरानी ने कहा कि कांग्रेस आज भी इस बात को स्वीकार नहीं कर पा रही कि एक आदिवासी महिला इस देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद को सुशोभित कर रही हैं। सोनिया गांधी द्वारा नियुक्त लोकसभा में नेता सदन अधीर रंजन ने द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्र की पत्नी के रूप में संबोधित किया, यह जानते हुए कि उनका यह संबोधन भारत के हर मूल्य और संस्कार के विरुद्ध हैं, यह जानते हुए भी कि देश के सर्वोच्च पद की गरिमा को यह संबोधन अटैक करता है। तब भी कांग्रेस के इस पुरुष ने इस तरह का घृणित कार्य किया है। उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि यह दुनिया और देश जानती हैं कि कांग्रेस पार्टी आदिवासी और गरीबों के विरुद्ध रही है। उन्होंने कहा कि एक गरीब आदिवासी महिला पर यह टिप्पणी करना कांग्रेस ने सोनिया गांधी की अध्यक्षता में यह संस्कार विहीन, मूल्य विहीन और संविधान को चोट पहुंचाने वाला काम किया है।

हालांकि अधीर रंजन चौधरी ने सफाई देते हुए उनकी जुबान फिसल गई थी और इसी कारण वे राष्ट्रपति के बदले पत्नी बोल बैठे. इसके लिए उन्होंने खेद भी जताया. इस पर सोनिया गांधी की ओर से भी एक बयान आया कि अधीर रंजन चौधरी की जुबान फिसल गई थी और उन्होंने इसके लिए माफी मांग ली है. 


Find Us on Facebook

Trending News