महंगाई की मार से दुनिया की सबसे बड़ी महाशक्ति हुई परेशान, जानिए कहाँ टूटा महंगाई के चार दशक का रिकॉर्ड

महंगाई की मार से दुनिया की सबसे बड़ी महाशक्ति हुई परेशान, जानिए कहाँ टूटा महंगाई के चार दशक का रिकॉर्ड

दिल्ली. महंगाई की मार से न सिर्फ भारत बल्कि दुनिया की सबसे बड़ी महाशक्ति भी परेशान है. पूरी दुनिया महंगाई की मार झेल रही है और इससे अमेरिका के लोग भी परेशान है. अमेरिका में महंगाई ने चार दशक का रिकॉर्ड तोड़ दिया है.  पिछले साल की तुलना में कंज्यूमर प्राइस इन्फ्लेशन 7 फीसदी बढ़ी है. जो जून 1982 के बाद सबसे अधिक है. आंकड़ों के मुताबिक, अमेरिका में दिसंबर में लगातार तीसरे महीने सालाना महंगाई दर 6 फीसदी से अधिक गति से बढ़ी है. इससे पहले नवंबर में यह 6.8 फीसदी बढ़ी थी. ब्यूरो ऑफ लेबर स्टैटिस्टिक्स ने बुधवार को आंकड़ा जारी किया. जिससे यह जानकारी सामने आयी है.

फूड कॉस्ट्स में दिसंबर में मासिक आधार पर 0.5 फीसदी की तेजी आयी. सभी प्रमुख ग्रोसरी कैटगरी में कीमतें बढ़ी. लेकिन फल-सब्जियों के दाम में सबसे ज्यादा वृद्धि हुई. हालांकि दिसंबर में एनर्जी कॉस्ट में 0.4 फीसदी की गिरावट आयी. मालूम हो कि अप्रैल 2021 के बाद पहली बार इसमें गिरावट आयी है. लेकिन 2022 में इसमें फिर तेजी की आशंका है.

रिपोर्ट के मुताबिक, बढ़ती मांग और सप्लाई की कमी के कारण देश में महंगाई बढ़ रही है. वहीं महंगाई बढ़ने की सबसे बड़ी वजह में हाउसिंग, यूज्ड कारों और ट्रकों की अहम भूमिका रही. महंगाई को देखते हुए अमेरिकी सेंट्रल बैंक इस साल ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर  सकता है. जिससे आने वाले समय में लोन का ईएमआई भरना महंगा पड़ सकता है.

फूड और एनर्जी कॉस्ट को हटा दें तो दिसंबर 2020 से दिसंबर 2021 के बीच मंहगाई 5.5 फीसदी की रफ्तार से बढ़ी. जो फरवरी 1991 के बाद सबसे बड़ी उछाल है. यह नवंबर से भी अधिक है. जब मुख्य महंगाई 4.9 फीसदी बढ़ी थी. फूड प्राइस इंडेक्स में भी 6.3 फीसदी की तेजी आयी. जबकि ग्रोसरी प्राइस में 6.5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई.

आंकड़ों के मुताबिक, एनर्जी कॉस्ट इंडेक्स पिछले एक साल में 29.3 फीसदी बढ़ा है. हालांकि यह भी 1980 के मुकाबले कम है. 1980 के स्प्रिंग में अमेरिका में मंहगाई 14.8 फीसदी पर पहुंच गयी थी


Find Us on Facebook

Trending News