स्टेशन पर रहने वाली एक लड़की के कारण आखिर क्यों 42 साल से बंद है यह स्टेशन

स्टेशन पर रहने वाली एक लड़की के कारण आखिर क्यों 42 साल से बंद है यह स्टेशन

नई दिल्ली. कुछ सामाजिक धारणाएं और लोक मान्यताएं ऐसी होती हैं जिसका असर पीढ़ी दर पीढ़ी देखा जाता है. भारतीय रेलवे से जुड़ी भी एक ऐसी ही लोक मान्यता के कारण पिछले 42 साल से पश्चिम बंगाल के एक स्टेशन पर विरानगी छाई है. यहाँ तक कि कई स्थानीय लोग तो जब यहाँ से ट्रेन गुजरती है तब खिड़कियाँ बंद कर देते हैं. और आपको जानकर आश्चर्य होगा कि यह सब होता है स्टेशन पर रहने वाली एक लडकी के कारण.

बेगुनकोडोर स्टेशन, पश्चिम बंगाल के पुरुलिया जिले में है. माना जाता है कि इस स्टेशन पर एक लड़की रहती है जो लड़की नहीं भूत है. 1960 में शुरू इस रेलवे स्टेशन पर अक्सर कुछ अजीबोगरीब घटनाएं होंती थी. एक दिन वहां के स्टेशन मास्टर ने दावा किया कि उसने रात के समय एक लडकी को देखा है जो भूत है. बस फिर क्या था यह बात आसपास के इलाके में जंगल की आग की तरह फ़ैल गई. अंततः 1967 में इस स्टेशन को बंद कर दिया गया. 

अब भी स्टेशन पर एक 12 गुना 10 का टिकट काउन्टर है. लेकिन यहाँ दिन के समय तो कुछ लोग दिख जाते हैं लेकिन शाम होने के पहले ही यहाँ विरानगी छा जाती है. 2007 में तत्कालीन रेल मंत्री ममता बनर्जी को कुछ लोगों ने इस स्टेशन को दोबारा शुरू करने के लिए कहा था लेकिन बड़ी संख्या में स्थानीय लोग इसके विरोध में आ गए. 

माना जाता है कि 1967 में एक लड़की की इस स्टेशन पर रेल सम्बंधी हादसे में मौत हुई थी. वही लड़की अब तक यहाँ भूत बनकर घूम रही है. इसका डर लोगों में आजतक बना हुआ है. कोई भी इस स्टेशन के विकास और यहाँ की धारणाओं को मिटाने का प्रयास नहीं कर रहा. हालाँकि बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी हैं जो इसे सिर्फ अफवाह मानते हैं और स्टेशन पर किसी लड़की के होने की बात को मनगढ़ंत कहानी मानते हैं. 


Find Us on Facebook

Trending News