बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • हथुआ राज के महाराजा मृगेंद्र प्रताप शाही को मिली मानद डॉक्टरेट की उपाधि, थाईलैण्ड के प्रसिद्ध विश्वविद्यालय ने सामाजिक कार्यों के लिए किया सम्मानित
  • हथुआ राज के महाराजा मृगेंद्र प्रताप शाही को मिली मानद डॉक्टरेट की उपाधि, थाईलैण्ड के प्रसिद्ध विश्वविद्यालय ने

  • कोटा में नीट की तैयारी कर रही छात्रा ने की आत्महत्या की कोशिश, समय रहते पहुंच गई मां
  • कोटा में नीट की तैयारी कर रही छात्रा ने की आत्महत्या की कोशिश, समय रहते पहुंच गई मां

  • जमुई के टीआर नारायण हेरिटेज प्ले स्कूल में धूमधाम से मनाया गया पहला वार्षिकोत्सव, बच्चों ने दी एक से बढ़कर एक प्रस्तुति
  • जमुई के टीआर नारायण हेरिटेज प्ले स्कूल में धूमधाम से मनाया गया पहला वार्षिकोत्सव, बच्चों ने दी एक

  • परिवार से फ्लैट खाली कराने में गुंडों की सहायता लेना कंकड़बाग थाने को पड़ा भारी, दोषी पुलिसकर्मी अपने पॉकेट से देंगे पीड़ित को मुआवजा, हाईकोर्ट का निर्देश
  • परिवार से फ्लैट खाली कराने में गुंडों की सहायता लेना कंकड़बाग थाने को पड़ा भारी, दोषी पुलिसकर्मी अपने

  • सीएम नीतीश ने जल संसाधन विभाग के 1,094 योजनाओं का किया उद्घाटन एवं शिलान्यास, 3,420 करोड़ रुपये की आएगी लागत
  • सीएम नीतीश ने जल संसाधन विभाग के 1,094 योजनाओं का किया उद्घाटन एवं शिलान्यास, 3,420 करोड़ रुपये की

  • प्रधानमंत्री एक साथ देश भर में अमृत भारत स्टेशन योजना के अंतर्गत 554 स्टेशनों के पुनर्विकास का करेंगे शिलान्यास, ECR के 23 स्टेशन भी शामिल
  • प्रधानमंत्री एक साथ देश भर में अमृत भारत स्टेशन योजना के अंतर्गत 554 स्टेशनों के पुनर्विकास का करेंगे

  • समता के प्रवर्तक संत रविदास की 647 वीं जयंती पर पटना महावीर मन्दिर में कार्यक्रम
  • समता के प्रवर्तक संत रविदास की 647 वीं जयंती पर पटना महावीर मन्दिर में कार्यक्रम

  • सीएम नीतीश ने सिमरिया धाम स्थल पर सीढ़ी घाट और अन्य सौदर्यीकरण कार्य का किया लोकार्पण, 115 करोड़ रूपये आई है लागत
  • सीएम नीतीश ने सिमरिया धाम स्थल पर सीढ़ी घाट और अन्य सौदर्यीकरण कार्य का किया लोकार्पण, 115 करोड़

  • रजनीकांत की चोरी हुई स्कॉर्पियो को पुलिस ने 48 घंटे में खोजा, चार शातिर बदमाशों को किया गिरफ्तार
  • रजनीकांत की चोरी हुई स्कॉर्पियो को पुलिस ने 48 घंटे में खोजा, चार शातिर बदमाशों को किया गिरफ्तार

  • स्पीड पोस्ट के जरिए सरकारी स्कूल शिक्षक ने डॉक्टर से मांगी पांच लाख की रंगदारी, पूर्व में रेलवे को उड़ाने की दे चुका है धमकी
  • स्पीड पोस्ट के जरिए सरकारी स्कूल शिक्षक ने डॉक्टर से मांगी पांच लाख की रंगदारी, पूर्व में रेलवे

45 साल से निःशुल्क अंग्रेजी और संस्कृत पढ़ा रहे हैं 70 वर्षीय बुजुर्ग, कईयों की तीसरी पीढ़ी को कर रहे हैं शिक्षित

45 साल से निःशुल्क अंग्रेजी और संस्कृत पढ़ा रहे हैं 70 वर्षीय बुजुर्ग, कईयों की तीसरी पीढ़ी को कर रहे हैं शिक्षित

BETTIA : पश्चिमी चंपारण जिला के रामनगर में एक 70 वर्षीय बुजुर्ग 45 वर्षों से नि:शुल्क शिक्षा देते आ रहे हैं। आसपास के गरीब लड़के लड़कियां यहां बाल वर्ग से तीसरी कक्षा तक शिक्षा ग्रहण करते हैं। रामनगर के मशहूर शिव मंदिर प्रांगण में राजदरबार के तरफ से यह गुरुकुल संचालित करने के लिए जमीन मुहैया कराई गई है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस गुरुकुल में बच्चों की नींव मजबूत होती है और यहां उनकी तीन पीढियां पढ़ चुकी है।

रामनगर के प्रसिद्ध शिव मंदिर प्रांगण में एक ऐसा गुरुकुल संचालित होता है जहां आज पढ़ रहे बच्चों के दादा और पापा समेत तीन पीढियां नि:शुल्क शिक्षा ग्रहण कर चुके हैं। दरअसल रामनगर राजदरबार के तरफ से वर्ष 1972 में मंदिर प्रांगण में ही गुरुकुल के लिए एक कमरा दिया गया जहां बाल वर्ग से तीसरी कक्षा तक के बच्चों का निःशुल्क भविष्य सँवारा जाता है। 


गुरुकुल में पढ़ाने वाले 70 वर्षीय रामेश्वर ठाकुर का कहना है कि जून 1972 से वह बच्चों को संस्कृत और अंग्रेजी समेत सभी विषयों का ज्ञान देते आ रहे हैं। यहां नि:शुल्क शिक्षा की व्यवस्था राज दरबार के तरफ से किया गया है ताकि देश के कर्णधारों को बेहतर शिक्षा मुहैया कराई जा सके और शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ रखते हुए बच्चों के भविष्य को सँवारा जा सके। गुरुकुल के गुरुजी बताते हैं कि बच्चे सेवा शुल्क के रूप में कुछ दें दे तब भी ठीक और ना दें तब भी वो शिक्षा का अलख आजीवन जगाते रहेंगे।

वहीं आसपास के जो गरीब बच्चे इस गुरुकुल में पढ़ने आते हैं उनके अभिभावकों का कहना है कि मात्र 1 रुपया शुल्क देकर उनलोगों ने भी यहीं से ककहरा सीखा है और आज महंगाई के दौर में उनके बच्चे भी नाम मात्र के खर्च में बड़े बड़े स्कूलों से बेहतर शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। 

कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं कि जहां आज के दौर में निजी विद्यालयों में पढ़ाई काफी महंगी है और बच्चों पर बस्ते का बोझ बढ़ता जा रहा है साथ  सरकारी विद्यालयों में शिक्षा के स्तर में किस कदर गिरावट आई है वैसे समय में इस गुरुकुल में ना तो बस्ते का बोझ दिखता है और ना ही पढ़ाई पर कोई खर्च है। लिहाजा यहां बच्चों की नींव निशुल्क मजबूत हो रही है और दर्जनों गरीब असहाय बच्चों के पढ़ने का सपना साकार हो रहा है।