आदित्य ठाकरे ने खोला तेजस्वी यादव से मुलाकात का राज, मुंबई से पटना के लिए रवाना होने के पहले सब कुछ कर दिया साफ

आदित्य ठाकरे ने खोला तेजस्वी यादव से मुलाकात का राज, मुंबई से पटना के लिए रवाना होने के पहले सब कुछ कर दिया साफ

पटना. शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे बुधवार को पटना आ रहे हैं. वे पटना में बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से मुलाकात करेंगे. दो युवा नेताओं के बीच हो रही इस मुलाकात के बेहद खास मायने निकाले जा रहे हैं. दोनों के बीच जहाँ पहली बार मुलाकात हो रही है, वहीं दोनों के दलों की विचारधारा भी भिन्न रही है. साथ ही तेजस्वी और आदित्य का राजनीतिक क्षेत्र भी दो अलग अलग राज्यों में है जिनका एक दूसरे के यहां कोई विशेष राजनीतिक पकड़ नहीं है. आदित्य ठाकरे मुम्बई से पटना के लिए रवाना हुए हैं. रवाना होने के पहले आदित्य ने मुंबई में इस यात्रा को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने तेजस्वी के साथ होने वाली मुलाकात के पीछे के कारणों का भी खुलासा किया है. 

आदित्य ने मुंबई में कहा कि तेजस्वी यादव मेरी उम्र के हैं. जब हम यानी शिवसेना महाराष्ट्र में सरकार में थी तब से हमारी और आदित्य की फोन पर बात होते रही है. उस समय तेजस्वी बिहार में विपक्ष में थे. अब वे बिहार में सरकार में हैं और हम सरकार से बाहर हैं. आज हम पहली बार मिलेंगे. हम दोनों पर्यावरण, उद्योग, जलवायु संकट सहित अच्छे काम पर चर्चा कर सकते हैं. 

शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) गुट ने एक बयान में कहा कि आदित्य के साथ राज्यसभा सांसद अनिल देसाई, प्रियंका चतुर्वेदी और पार्टी के अन्य नेता भी होंगे. साथ ही पार्टी की ओर से कहा गया कि आदित्य की तेजस्वी यादव के साथ शिष्टाचार मुलाकात होगी. मुंबई के वर्ली से मौजूदा विधायक आदित्य ने अपने पिता के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती एमवीए सरकार में पर्यटन और पर्यावरण मंत्री के रूप में काम किया था. 

बिहार सरकार का नेतृत्व जनता दल (यूनाइटेड) के नीतीश कुमार कर रहे हैं, जिन्होंने अगस्त में भाजपा के साथ अपना गठबंधन समाप्त कर लिया और राजद, कांग्रेस और वाम दलों के महागठबंधन या 'महागठबंधन' के साथ हाथ मिला लिया. महाराष्ट्र में, ठाकरे के नेतृत्व वाला गुट इस साल जून तक एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन में सत्ता में था, इससे पहले एकनाथ शिंदे और शिवसेना के 39 विधायकों के नेतृत्व वाले विद्रोह से इसे उखाड़ फेंका गया था. 


वहीं विपक्षी एकता के लिए पिछले कुछ समय से प्रयासरत नीतीश कुमार की हाल के महीनों के देश के कई नेताओं से मुलाकात हुई थी. अब आदित्य ठाकरे का अचानक से बिहार आना और तेजस्वी यादव से मुलाकात करना भी उसी दिशा में जोड़कर देखा जा रहा है. माना जा रहा है कि आदित्य ठाकरे भी वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर विपक्ष के राजनीतिक दलों के साथ रणनीति बनाने की दिशा में काम करने के लिए आगे बढ़े हैं. उसी क्रम में उनकी और तेजस्वी की मुलाकात हो रही है. 


Find Us on Facebook

Trending News