CM नीतीश के आगमन से पहले अपनी नाकामी छिपाने में जुटा मोतिहारी स्वास्थ्य विभाग, लाखों की दवाइयों को किया आग के हवाले

CM नीतीश के आगमन से पहले अपनी नाकामी छिपाने में जुटा मोतिहारी स्वास्थ्य विभाग, लाखों की दवाइयों को किया आग के हवाले

MOTIHARI : मोतिहारी में सीएम नीतीश कुमार की आगामी 22 दिसम्बर को आगमन को लेकर सभी विभाग तैयारी में जुटा है ।जिला में साफ सफाई ,रंग रोदन हो रहा है तो दूसरी तरह सभी विभाग अपने अपने को बेहतर कार्य दिखाने की तैयारी में दिन रात एक किये हुए है। वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग अपनी नाकामी छुपाने में जुटा है। स्वास्थ्य विभाग सरकार द्वारा जरूरतमंदों को देने वाली दवा मरीजों को नही देकर जलाकर नष्ट करने में जुटा है। दवाओं को जलाने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जो कि पताही सीएचसी का बताया जा रहा है। उक्त वीडियो को लेकर दावा किया जा रहा है कि यह बीती रात की है। वीडियो वायरल होने के बाद असमलोग यह सवाल कर रहे है कि आखिर आमलोग दवा के लिए भटकते रहते है ।वही स्वास्थ्य कर्मी मरीजों को दवा नही देकर जलाकर नष्ट कर रहे है ।

बता दें कि विगत 8 दिसम्बर को भी पताही सीएचसी के चापाकल के पास लाखों की दवा जलाने का वीडियो वायरल हुआ था। सीएम द्वारा जांच टीम का गठन किया गया था। लेकिन जांच अभी पूरा भी नही हुआ कि उसी अस्पताल का दवा जलाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है । इस संबंध में पताही सीएचसी के प्रभारी से सम्पर्क करने का प्रयास किया गया। लेकिन संपर्क नही हो सका।

पताही पीएचसी परिसर में लाखों की एक्सपायरी दवा कूडे में फेंकी मिली

पताही प्रखंड मुख्यालय के पीएचसी के नए भवन के पीछे पेड़ के पास लाखों रुपए की एक्सपायरी दावा को  फेंकी हुई पाई गई है। वही  कुछ दवाओं को जलाया भी गया है। कचरे के ढेर में फेंकी गई दवा में दर्द की दवा, कैल्शियम, इंजेक्शन समेत आदि दवाएं शामिल है। हालांकि वह स्पष्ट नहीं हो सका है कि उक्त दवा किस परिस्थिति में एक्सपायर हुई है। हालांकि एक्सपायरी दवाएं की जानकारी विभाग को दी जाती है। इसके बाद विभाग के निर्देशानुसार विनष्ट किया जाता है। सबसे आश्चर्यजनक यह कि इस दवा के बारे में अस्पताल कर्मी कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे हैं। एक तरफ गरीब मरीज दवा के लिए भटक रहे हैं। वही दूसरी तरफ सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई दवा अस्पताल कर्मियों की लापरवाही के कारण एक्सपायर कर गईं। इस संबंध में चिकित्सा पदाधिकारी डॉ मोहनलाल प्रसाद पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि इसकी जानकारी नहीं है। पता कर जांच की जाएगी।

बुधवार को आनेवाले हैं सीएम

बिहार के सीएम नीतीश कुमार समाज सुधार यात्रा आरंभ कर रहे हैं, जिसकी शुरुआत आगामी 22 दिसम्बर को मोतिहारी जिले से ही शुरु होनी है। जहां सीएम के आगमन को लेकर सभी विभाग अपने रिकार्ड को दुरुस्त करने में जुटी है, वहीं दूसरी तरफ जिले के स्वास्थ्य विभाग अपनी करनी को छिपाने में लगी हुई है। जहां पीएचसी ले पास कूड़ादान में लाखों के दवा फेकने व जलाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है ।लेकिन पीएचसी प्रभारी ने इसकी जनकारी से इंकार किया गया। वहीं सीएस ने टीम बनाकर जांच कराने व दोषी पर कार्रवाई करने की बात कही गई।

पहली बार नहीं हुई है यह घटना

सूत्रों की माने तो लगभग एक वर्ष पूर्व भी पताही पीएचसी के पास लाखो की दवा फेकने मामला प्रकाश में आया था ।एसडीओ के निर्देश पर सीएस द्वारा मामले की जांच करायी गई .लेकिन आजतक जांच फाइल धूल चाट रहा है । इसी तरह  कुछ माह पहले तुरकौलिया पीएचसी में शौचालय की टंकी में लाखो की दवा फेक दिया गया था। कोटवा पीएचसी में भी इसी तरह लाखो का दवा अस्पताल के बाहर फेंकने का मामला संज्ञान में आया था ।

  

Find Us on Facebook

Trending News